मेवाड़ की खबरें


पैसिफिक के छात्रों के परिधान पहन रैंप पर उतरे देश के जाने माने मॉडल्स

एल्युमिनेटी-2018 में ट्रेंडीडिजाइनर परिधानों से रूबरू हुए उदयपुराईट्स
गगन कुमार थे शो के कोरियोग्राफर एवं डिजाइनर
लॉ रोजा-मीलिट्री प्रिंट, राजस्थानी और क्लासी मैसी थीम पर फैशन शो

उदयपुर। पैसिफिक विश्ववविद्यालय के पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी एंड मॉस कम्युनिकेशन की ओर से रविवार को सुखाडिय़ा रंगमंच टाउन हॉल में वार्षिक समारोह एल्युमिनेटी-2018 फैशन शो आयोजित किया गया। शो के दौरान देश के ख्यातनाम मॉडलों ने पीआईएफटी के विद्यार्थियों द्वारा तैयार किए गये लॉरोजा, हिलटॉप, राजस्थान रॉयल्स और क्लासी मैसी थीम पर परिधान पहन कैटवॉक किया। फैशन शो का शुभारंभ मुख्य अतिथि फिल्म अभिनेत्री राइमा सेन, फिल्म निदेशक आर्यमन रामसे, लीला देवी अग्रवाल, पाहेर के वित्त सचिव आशीष अग्रवाल, पेसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की डायरेक्टर शीतल अग्रवाल ने किया। प्रारंभ में पेसिफिक के विद्यार्थीयों ने गणेश वन्दना प्रस्तुत की। शो के कोरियोग्राफर एवं डिजाइनर गगन कुमार थे।
स्वागत करते हुए पेसिफिक विश्ववविद्यालय के वित्त सचिव आशीष अग्रवाल ने कहा कि उदयपुर में फैशन को लेकर खासा टेलेंट है। जरूरत है तो सिर्फ उसे तराशने की। संस्थान के विद्यार्थीयों ने इस समारोह को लेकर एक माह पूर्व ही तैयारी शुरू कर दी थी जो आज रंग लाई है। पीआईएफटी की हमेशा यह कोशिश रहेगी कि वे विद्यार्थीयों को बेहतरीन प्लेटफार्म उपलब्ध कराएं। समारोह में सबसे पहले गुलाब और गुलकंद से प्रेरित थीम ला रोजा पर आधारित परिधानों का प्रदर्शन किया गया जिसमें छात्रों ने गुलाब की पंखुडिय़ों के आकार और टीन और टोन को इस्तेमाल करते हुए आकषक डिजायनर वस्त्र पहने जब मॉडल्स रैंप पर उतरी तो सभी ने उनका स्वागत तालियों की गडग़ड़ाहट के साथ किया। इसके बाद हिलटॉप राउण्ड में मिलिट्री प्रिन्ट और रंगों का प्रयोग किये हुए परिधानों बारी थी जिन्हें विद्यार्थियों ने गतिशील और प्रभावशाली बनाने के लिए फूलों और रफल्स जैसे तत्वों का प्रयोग कर कमाल के संयोजन से तैयार किया, इन परिधानों को प्रस्तुति को दर्शकों ने खूब सराहा। रणबंका और हंसमत पगली फिल्म के बाल कलाकार अव्य अग्रवाल ने शो में एबीसीडी फिल्म के गीत बेजुबां पर डांस की धमाकेदार प्रस्तुति दी और रैम्प पर वॉक कर सभी की तालियां बटोरी।
इसके बाद राजस्थान रॉयल्स राउण्ड में राजस्थान की विभिन्न शहरों और संस्कृतियों से प्रेरित परिधानों को प्रस्तुत किया गया। इसमें कपड़ों पर कांच एवं गोटा पत्ति का उपयोग किया गया। मॉडल्स ने पारंपरिक प्रिंट लहेरिया और बंधेज का उपयोग कर राजस्थान की संस्कृति को प्रस्तुत किया जिसे सभी की सराहना मिली।
सभी राउंड में ज्वेलरी सेटअप और मैकअप को लेकर खासी मेहनत दिखाई दी जिसने दर्शकों को ज्वेलरी में ताजापन का अहसास करवाया। शो के कोरियोग्राफ्रर डिजाइनर गगन कुमार थे। उन्होंने थीम बेस्ड और परंपरागत कोरियोग्राफी के साथ ड्रामा, इमोशन को जीवंत करते हुए लाइट और म्युजिक का शानदार इस्तेमाल किया। डिजाइनर गगन कुमार के निर्देशन में पेसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी एंड मॉस कम्युनिकेशन के विद्यार्थीयों ने लेटेस्ट और ट्रेंडी परिधानों से रू-ब-रू करा फैशन को जीवंत कर दिया। इस दौरान विद्यार्थीयों की एक के बाद एक सांस्कृतिक प्रस्तुति ने दशकों को झूमने पर मजबूर कर दिया।
समारोह में बेस्ट स्टूडेंट्स का अवार्ड हीना लोढ़ा, गिरीजाती राजू, हर्ष तेवानी, वसंत माली, शगून माहेश्वरी, अशिया खान, आंचल चुघ, सृष्टि पुरोहित, मोहम्मद आसेफ को दिया गया। संचालन पीआईएफटी के आंचल चुघ एंव अलीशिया मैसी ने किया। एल्युमिनेटी-2018 फैशन शो में इंस्टीट्यूट के छात्रों ने शीतल अग्रवाल के निर्देशन में विभिन्न गतिविधियों में अपनी छाप छोड़ी।
पेसिफिक विश्वविद्यालय के वित्त सचिव आशीष अग्रवाल, शीतल अग्रवाल एवं अतिथियों ने फैशन शो के दौरान बेस्ट डिजाइनर फिमेल राउंड में प्रथम आंचल चुघ एवं देशना पीतलिया को, द्वितीय शगून माहेश्वरी एवं तृतीय अमिशा पारदिया रही। बेस्ट डिजाइनर मेल राउंड में तृप्ति व्यास प्रथम एवं नेहा कुमारी को दिया गया। बेस्ट थीम अवार्ड में रॉयल राजस्थान व द्वितीय हिलटॉप को दिया गया। बेस्ट डिजाइनर किड्स राउंड में प्रथम दिव्य महात्मा व द्वितीय रश्मी बजाज को दिया गया। शो में पीआईएफटी फेकल्टी पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी एण्ड मास कम्युनिकेशन की एडमिन हेड फातिमा ना$ज, फेकल्टी डिजायनर यशवंत कुमार जैन, मुकेशकुमार औदिच्य, आर्किटेक्ट हितेष मिस्त्री, प्रकृति दीक्षित पोरवाल, संगीता सिंघवी, राजेश्वरी लोढ़ा, सोनू सेठिया, राजेश शर्मा और प्रकाश शर्मा, कोमल सुखवानी, नाजनीन खान का विशेष योगदान रहा।

By : Sameer Banerjee



आचार्य डॉ.शिवमुनि म. का महाप्रज्ञ विहार में चातुर्मास प्रवेश 21 को

चातुर्मास में मुख्य रूप से विभिन्न धर्मचक्रों का आयोजन होगा
प्रत्येक रविवार को शिवाचार्य ज्ञानशाला का आयोजन

उदयपुर। श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ उदयपुर एवं श्री शिवाचार्य चातुर्मास आयोजन समिति के तत्वावधान में पहली बार शहर में आयोजित होने जा रहे श्रमणसंघीय आचार्य ध्यानयोगी डॉ. शिवमुनि महाराज, युवाचार्य महेन्द्र ऋषि, शिरीष मुनि, प्रमुख मंत्री शुभम मुनि आदि ठाणा-10 के चातुर्मास के दौरान विभिन्न आयोजन की गंगा बहेगी। हिरणमगरी से. 11 स्थित अमर जैन साहित्य संस्थान में आयोजित प्रेस वार्ता में आचार्यश्री डॉ. शिवमुनि महाराज ने बताया कि चातुर्मास में मुख्य रूप से विभिन्न धर्मचक्रों का आयोजन होगा। उन्होंने कहा कि आज की तनावयुक्त जिदंगी में भी युवा किस प्रकार तनावमुक्त एवं स्वस्थ रहें। इस पर जोर दिया जायेगा। इन पर चार माह के दौरान विभिन्न आत्म ध्यान शिविर आयोजित किये जायेंगे। शहर की जनता को धर्म, कर्तव्य एंव अपने सामाजिक दायित्व के प्रति संवदेनशील बनाने हेतु धार्मिक आयोजन किये जायेंगे। युवाचार्य महेन्द्र ऋषि म.सा. ने बताया कि बालकों में सुसंस्कारों का सिचंन करने हेतु प्रत्येक रविवार को शिवाचार्य ज्ञानशाला का आयोजन किया जायेगा। चातुर्मास के दौरान नारी सशक्तिकरण पर अनेक आयोजन होंगे। चातुर्मास प्रवेश पर विश्व शंाति हेतु 8 दिन का, पर्युषण पर्व के दौरान 9 दिन का अखण्ड और चातुर्मास पूर्णाहूति पर 24 घण्टे का अखण्ड नवकार मंत्र का जाप चलेगा। दिन में महिलायें और रात्रि में पुरूष नवकार मंत्र का जाप करेंगे। शिरीष मुनि महाराज ने बताया कि तपस्याओं में अनेक धर्मचक्र,तेले की लडिय़ा,आयम्बिल की लडिय़ा,अनेकों अ_ाईयंा, मासमखण किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि आचार्य डॉ. शिवमुनि महाराज जैन समाज के सबसे बड़े श्रमण संघ के आचार्य है और आचार्यश्री के निर्देशन में 325 चातुर्मास स्थलों पर 1186 साधु-साध्वी विहार कर रहे है। प्रमुख मंत्री शुभम मुनि महाराज ने बताया कि चातुर्मास के दौरान व्यसन मुक्ति,नैतिक संस्कार, बाल संस्कार,आनन्द, शंाति, एवं सुख से जीने की कला सिखायी जायेगी,साथ ही अहिंसा, सत्य अपरिग्रह,अनेकान्त आदि सिद्धान्तों का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस अवसर पर जिनेन्द्र मुिन म.सा.,श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ के अध्यक्ष ओंकारसिंह सिरोया, श्री शिवाचार्य चातुर्मास आयोजन समिति के मुख्य संयोजक विरेन्द्र डांगी, प्रचार प्रसार संयोजक निर्मल पोखरना, समन्वयक एवं सह संयोजक संजय भण्डारी, बसन्तीलाल कोठिफोड़ा, भंवर सेठ,शान्तिलाल बाबेल, दिलीप सुराणा,विजय सिसोदिया, नरेन्द्र सेठिया, उदयलाल भूतालिया, महेन्द्र तलेसरा सहित अनेक पदाधिकारी मौजूद थे।

By : Vinita Talesra



मन को नियंत्रण में रख कर ही जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त की जा सकती है

माईन्ड मैनेजमेन्ट पर यूसीसीआई में सेमिनार सम्पन
गुस्से से बोलो अथवा प्यार से, आप दूसरे को बदल नहीं सकते

उदयपुर। अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त काॅर्पोरेट ट्रेनर प्रोफेसर ई.वी. स्वामीनाथन ने पावर पाॅईन्ट प्रेजेंटेशन के माध्यम से विज्ञान एवं आध्यात्म विषय पर प्रशिक्षण प्रदान किया। उन्होंने कहा की मन को स्वयं के नियंत्रण में रख कर ही जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त की जा सकती है। समाज को बेहतर बनाने हेतु अपना योगदान प्रदान करना सच्ची खुशी देता है। स्वयं को तथा अपने व्यवसाय अथवा केरियर को बेहतर बनाने हेतु अपनी सम्पूर्ण योग्यता एवं क्षमता से कार्य करना ही आपको सर्वोंत्तम एवं सर्वोत्कृष्ट बनाता है तथा चित्त की एकाग्रता से ही यह संभव हो सकता है। कैसी भी परिस्थिति क्यों न हो, हमेशा शांत रहने का प्रयास करें। आप गुस्से से बोलो अथवा प्यार से, आप दूसरे को बदल नहीं सकते। इसलिये स्वयं के लिये जियें, दुनिया को सुधारने की कोशिश नहीं करें। यह बात प्रोफेसर ई.वी. स्वामीनाथन ने उदयपुर चेम्बर आॅफ काॅमर्स एण्ड इण्डस्ट्री एवं ब्रह्मकुमारी के संयुक्त तत्वावधान में चेम्बर भवन में मन प्रबन्धन के माध्यम से क्षमता में वृद्धि (इनक्रीजिंग एफीषियन्सी थ्रू माइण्ड मेनेजमैन्ट) विषय पर हुई कार्यशाला में कही। इस अवसर पर प्रतिभागियों को प्रश्नकाल के दौरान विषय विषेशज्ञ द्वारा विषय के संदर्भ में जानकारी प्रदान की गई। कार्यक्रम के आरंभ में अध्यक्ष हंसराज चौधरी एवं वरिश्ठ उपाध्यक्ष आषीश सिंह छाबडा ने विषय विषेशज्ञ प्रोफेसर ई.वी. स्वामीनाथन को उपरना ओढाकर एवं पौधा भेंट कर स्वागत किया। कार्यशाला में यूसीसीआई के वरिष्ठ सदस्यों के साथ-साथ बड़ी संख्या में युवा सदस्यों ने भाग लिया। इस अवसर पर हंसराज चौधरी ने कार्यक्रम के प्रति प्रतिभागियों की रूचि को देखते हुए इस प्रकार के कार्यक्रम भविष्य में भी आयोजित किये जाने का आश्वासन दिया। उपाध्यक्षा डाॅ. अंशु कोठारी ने ई.वी. स्वामीनाथन का संक्षिप्त परिचय प्रस्तुत किया। धन्यवाद युवा उद्यमिता प्रोत्साहन समिति के चेयरमैन प्रतीक हिंगड एवं संचालन मानद महासचिव केजार अली ने किया।

By : Sourabh Ojha



सोजतिया क्लासेज की हिरण मगरी सेक्टर- 14 में ब्रांच प्रारंभ

संस्थापक प्रो.रणजीत सिंह सोजतिया ने ब्रांच का उदघाटन किया
कॉमर्स, साइंस कोर्सेज के साथ समस्त प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग

16/07/2018 - उदयपुर। हिरणमगरी सेक्टर-14 एवं आसपास के रहने वालो के लिए सोजतिया क्लासेज की ब्रांच मिकाडो बिल्डिंग में प्रारंभ हुई। सोजतिया क्लासेज के संस्थापक प्रो.रणजीत सिंह सोजतिया ने ब्रांच का उदघाटन किया। संस्थान के निदेशक डॉ महेंद्र सोजतिया ने बताया कि क्षेत्र वासियों की लंबे समय से मांग थी कि क्षेत्र में सोजतिया क्लासेज की शुरूआत की जाए जिसके चलते अब क्षेत्र एवं आसपास के छात्र-छात्राओं को कॉमर्स व साइंस ही नहीं बल्कि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए भी विषय विशेषज्ञों का मार्गदर्शन मिलेगा।
समारोह में सोजतिया क्लासेज के निदेशक डॉ. महेंद्र सोजतिया, शरद जैन, भोले नागदा मौजूद थे। डॉ सोजतिया ने बताया कि ब्रांच पर कॉमर्स तथा साइंस के विभिन्न कोर्सेज के साथ-साथ समस्त प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग अनुभवी फैकल्टी के निर्देशन में उपलब्ध कराई जाएगी।
ब्रांच हेड भोले नागदा ने बताया कि संस्थान पर कक्षा 11 वी 12 वी साइंस कॉमर्स के विषय तथा सीए सीएसआइआइटी जेईई नीट की तयारी के साथ-साथ विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा क्लेट, आरएएस, जूनियर एकांउण्टेंट, बैंक, एसएससी आदि की तैयारी अनुभवी विषय विशेषज्ञों के द्वारा करवाई जाएगी।

By : Vinita Talesra



पैसिफिक का इल्युमिनेटी 2018 फैशन शो रविवार को

पीआईएफटी के विद्यार्थियों के परिधानों पर देश की ख्यात मॉडल करेंगी कैटवॉक
फैशन और टैक्सटाइल के विद्यार्थियों ने थीम तैयार की

14/07/2018 - उदयपुर। पैसिफिक यूनिवर्सिटी के पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी एण्ड मास कम्युनिकेशन की ओर से रविवार 15 जुलाई को सुखाडिय़ा रंगमंच, टाउनहॉल सभागार पर सायं 6 बजे इल्युमिनेटी 2018, वार्षिकोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसमें फैशन टेक्नोलॉजी के विद्यार्थी मुंबई से आए फैशन एक्सपर्ट और मॉडल्स के साथ रैंप पर कदम से कदम मिलाऐंगे। यह जानकारी शनिवार को होटल ड्रीम पैलेस में आयोजित प्रेसवार्ता में पाहेर के वित्त सचिव आशीष अग्रवाल ने दी।
पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी के डिजाइनर यशवंत जैन ने बताया कि इल्युमिनेटी 2018 फैशन शो की थीम लॉ रोज़ा, हिलटॉप, रॉयल राजस्थान, क्लासीमेसी, मिनी मिरेकल्स होगी। शो के कोरियोग्राफर और डिजाइनर मुंबई के गगन कुमार होंगे। फैशन शो में टीवी एक्टर, लेक्मे एंड विल्स टॉपर मॉडल, मिस इंडिया आंध्रप्रदेश, मिस इंडिया आसाम, लेक्मे पूल मॉडल, मिस इंडिया गुजरात सहित देश विदेश में अपने जलवे बिखेर चुके फैशन जगत और भारत के टॉप 15 मॉडल्स रैंप पर केटवॉक करते दिखेंगे।

पाहेर के वित्त सचिव आशीष अग्रवाल ने बताया कि महिला मॉडलों में एलाइट टॉप मॉडल निवेदिता, लेक्मे एवं विल्स सुपर मॉडल जसपाल कौर, टीवी एक्टर परी साहनी, मिस इंडिया आंध्रप्रदेश सृष्टि व्याक्रनम, इंडिया असाम सुनैना कामत, टीवी एक्टर अमानी सितरला, विजया डे, अमरदीप कौर, शैनन गोन्साल्विस, मीनाश राउथर रैंप पर कैटवॉक कर अपने जलवे बिखेरेंगी। इसी तरह पुरूष मॉडलों में विपुल चौधरी, निशांत खांडिया, प्रशांत नागर, मनोज नागपाल और जतिन कपूर रैंप पर कैटवॉक करेंगे।

शो की थीम को फैशन और टैक्सटाइल के विद्यार्थियों ने शीतल अग्रवाल के निर्देशन में तैयार किया है। इल्युमिनेटी 2018 का स्टेज डिजाइन, इंटीरियर एवं आर्कीटेक्ट के छात्र छात्राओं ने और मॉडल्स की सुन्दर ज्वेलरी डिजाइन एवं डे्रसेज का काम फैशन, टैक्सटाइल, ज्वेलरी एवं फाइन आर्टस के विद्यार्थियों ने फेकल्टी के दिशा निर्देशन में किया है। पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी एण्ड मास कम्युनिकेशन की एडमिन हेड फातिमा नाज, फेकल्टी डिजायनर यशवंत कुमार जैन, मुकेशकुमार औदिच्य, आर्किटेक्ट हितेष मिस्त्री, प्रकृति दीक्षित पोरवाल, संगीता सिंघवी, राजेश्वरी लोढ़ा, सोनू सरलिया, राजेश शर्मा, कोमल सुखवानी, नाज़नीन खान और प्रकाश शर्मा के निर्देशन में छात्र छात्राओं ने आकर्षक डिजायनर परिधान तैयार किये।

पैसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की डायरेक्टर शीतल अग्रवाल ने बताया कि इल्युमिनेटी 2018 के कोरियोग्राफर और डिजाइनर मुंबई के गगन कुमार हैं जो कि फैशन वल्र्ड के जानेमाने नाम हैं। फैशन शो में प्रवेश केवल निमंत्रण पत्र द्वारा ही मान्य होगा। गतवर्ष इल्युमिनेटी 2017 में इंस्टीट्यूट के विद्यार्थियों ने लाजवाब प्रस्तुतियां दी थी। इस बार भी कार्यक्रम को उतना ही आकर्षक और रोचक बनाया जाएगा।
फैशन दिखावा नहीं, आरामदायक हो : गगन कुमार
जानेमाने डे्रस डिजाइनर गगन कुमार का मानना है कि आज के दौर में फैशन से सभी अपडेट रहना चाहते हैं लेकिन उसमें यह जरूरी है कि परिधान दिखावे से ज्यादा आरामदायक हों। फैशन में होना अच्छी बात है लेकिन वह हमारे लिए मुसीबत न बने। भारतीय परिधानों का स्थान देश और विदेश में अपनी अलग पहचान रखता है और मन को जो सकुन दे वही फैशन है। गगन कुमार मौसम के अनुकूल आम लोगों को ध्यान में रखते हुए अपने परिधान डिजाइन करते है साथ ही वक्त के साथ ट्रेंड पर भी इनका ध्यान रहता है। उनका कहना है कि भारतीय फेब्रिक बेमिसाल है। अनिल कपूर, सुष्मिता सेन, प्रीति जिंटा और सोनू सूद जैसे जानेमाने बॉलीवुड एक्टर के साथ काम कर चुके गगन मानते हैं कि भारतीय परिधान का विश्व में दूसरा स्थान है और अब भारत में अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड के प्रति लगाव बढ़ रहा है। गगन जल्द ही राजस्थान के जयपुर में अपना स्टोर शुरू करने की मंशा रखते हैं।
कैरियर में सफलता के लिए कड़ी मेहनत जरूरी : सृष्टि व्याक्रनम
मिस यूनिवर्स इंडिया 2016 की टॉप फाइनलिस्ट, मिस एशिया पेसिफक इंटरनेशनल में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली एवं मिस इंडिया फेमिना आंध्रप्रदेश 2017 सृष्टि व्याक्रनम का मानना है कि किसी भी कैरियर में कड़ी मेहनत जरूरी है बस आपको उस क्षेत्र के बारे में पूरी जानकारी और दृढ़ निश्चय यदि है तो मॉडलिंग हो या फिर कोई अन्य क्षेत्र कैरियर में सफलता हासिल की जा सकती है। मॉडलिंग बैकअप की तरह नहीं, बल्कि ऐसा क्षेत्र है जिसमें बुलंदियों को हासिल किया जा सकता है। उनका मानना है कि किसी भी केरियर में सही समय पर सही कदम जरूरी है ताकि सफलता हासिल हो सके। सृष्टि साफ्टवेयर डवलपर की पढ़ाई कर मॉडलिंग के प्रोफेशन में है जिसमें उनके परिजनों का पूरा समर्थन है।
मॉडलिंग के रनवे पर फिट रहना आवश्यक : शैनन गोन्सालविस
मिस इंडिया यूनिवर्स 2017 की फाइनलिस्ट और ब्यूटीफूल बॉडी एवं मिस टेक दीवा का खिताब जीत चुकी शैनन गान्सालविस पायलट बनना चाहती थी लेकिन शौक ने उन्हें फैशन और मॉडलिंग के रनवे पर ला दिया। उनका मानना है कि आत्मविश्वास के साथ प्रतिभा का सौ प्रतिशत उपयोग करने से मंजिल पाई जा सकती है। अच्छा व्यवहार और फिट रहने को अपनी सफलता का सूत्र मानती है। वे एक मॉडल होने के नाते अच्छी इंसान होकर खुद खुश होने के साथ-साथ सभी को खुश रखने में विश्वास रखती है। वे मानती हैं कि किसी भी क्षेत्र में अच्छा काम करने के लिए परिवार का साथ होना जरूरी है। अच्छा मॉडल बनने के लिए कठिन परिश्रम आवश्यक गुण है।
सही का चुनाव जरूरी : सुनैना कामथ
सुनैना कामथ फेमिना मिस इंडिया आसाम 2018 का ताज अपने नाम कर चुकी है। पेंटालून फेमिना मिस इस्ट फ्रेश फेस हैं। इनका मानना है कि किसी भी क्षेत्र में आपको सही और गलत का चुनाव करना जरूरी है यदि आपका चयन सही होगा तो आपको सफलता भी अवश्य मिलेगी। बचपन से इन्हें मॉडलिंग का शौक था। इसके लिए उन्होंने आत्मविश्वास के साथ इस क्षेत्र में कदम रखा। उन्होंने आने वाली पीढ़ी से अच्छा काम करने के लिए किसी भी शॉर्टकट को नहीं अपनाने की सलाह दी।

By : Sourabh Ojha



इंटरनेट सेवाएं 14 और 15 जुलाई को उदयपुर में बंद रहेगी

पुलिस कांस्टेबल परीक्षा को देखते हुए सेवाएंं बंद
उदयपुर में 24 परीक्षा सेंटर्स पर एग्जाम होगा

13/07/2018 - उदयपुर। पुलिस कांस्टेबल परीक्षा को देखते हुए 14 और 15 जुलाई को इंटरनेट सेवाएंं बंद रहेंंगी। उदयपुर शहर, देबारी, डबोक, उमरडा में सुबह 8 से 5 बजे तक नेट बंद रहेगा । परीक्षा में नक़ल रोकने को लेकर ये कदम उठाया गया है। संभागीय आयुक्त ने इस संबंध में आदेश जारी किया है। वहींं ,पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा को लेकर पुलिस प्रशासन ने कड़े सुरक्षा बंदोबस्त किए हैंं। उदयपुर में 24 परीक्षा सेंटर्स पर एग्जाम होगा जहां पर 14 और 15 जुलाई को चार पारियों में 56 हजार 928 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। नकल रोकने के लिए सुरक्षा ऐसी की गई है कि परीक्षा सेंटर पर परिंदा भी पर नही मार पाएगा। सुबह पेपर शुरू होने से आधा घंटे पहले सभी अभ्यर्थियों को प्रवेश दे दिया जाएगा उसके बाद सेंटर लॉक कर दिया जाएगा जो एग्जाम खत्म होने पर ही खुलेगा। परीक्षा को लेकर एग्जाम सेंटर पर जेमर लगाए गए हैंं । सेंटर पर बिना कार्ड धारी पुलिसकर्मी तक प्रवेश नही कर पाएगा। एग्जाम शुरू होने से पहले सर्च ऑपरेशन चलाया जाएगा। किसी भी केन्द्राधीक्षक,स्टाफ कर्मचारी या फ्लाइंग स्क्वायड के पास मोबाइल नही रहेगा। इस परीक्षा को निपटाने के लिए 500 से ज्यादा पुलिस अधिकारी कर्मचारी ड्यूटी पर तैनात किए गए है। एएसपी मुख्यालय ब्रृजेश सोनी ने पुलिस लाइन कॉफ्रेंस हॉल में बैठक लेकर तमाम एएसपी,डिप्टी,सीआई,एएसआई लेवल के अधिकारियों को सुरक्षा बंदोबस्त संबंधित निर्देश दिए।

By : Sourabh Ojha



कमलेश के अद्भुत केश विन्यास ने बढ़ाया देश का मान

- एशिया पेसिफिक में पहले स्थान पर रहे
विश्व के लगभग 115 नामचीन हेयर स्टाइलिस्ट्स ने हिस्सा लिया

13/07/2018 - उदयपुर। अपनी अद्भुत केश विन्यास तकनीक से दुनियाभर के विशेषज्ञों को अचंभित करते हुए राजस्थान उदयपुर के कमलेश सेन (चेम्पियन) पेरिस में हुई ओएमसी ग्लोबल हेयर स्टाइलिस्ट, 2018 ऑनलाइन हेयर कट फोटोग्राफी प्रतियोगिता के जेंटस फेड हेयर कट वर्ग में न सिर्फ टॉप-5 में जगह बना देश का नाम रोशन किया बल्कि पूरे एशिया पेसिफिक क्षेत्र में पहला स्थान प्राप्त किया है। गुरूवार को विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी यथा जमनेश सेन, शंभूलाल सेन, अशोक पालीवाल, मंजू शर्मा, आशा कालरा, नंदा भाटिया एवं दुर्गेश सेन ने एशिया पेसिफिक फेड हेयर कट विजेता कमलेश सेन का सम्मान किया। इस अवसर पर आयोजित प्रेसवार्ता में कमलेश सेन ने बताया कि इस प्रतियोगिता में विश्व के कई देशों के दिग्गज हेयर स्टाइलिस्ट ने हिस्सा लिया था जिनमें से विशिष्ट प्रतिभा के धनी कमलेश सेन को ओवरऑल पांचवी पोजीशन मिली। सबसे खास बात यह रही कि भारत ही नहीं पूरे एशिया पेसिफिक में यह खास मुकाम कमलेश सेन ने ही हासिल किया। इस प्रतियोगिता में विश्व के लगभग 115 नामचीन हेयर स्टाइलिस्ट्स ने हिस्सा लिया जिनके बीच हर स्तर पर बहुत की कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिली। अपनी सफलता से बेहद खुश कमलेश सेन ने बताया कि इस विश्व स्तरीय प्रतिष्ठित स्पर्धा में उदयपुर से उनके साथ अनिल सेन, श्वेताशा पालीवाल, पुष्कर सेन और बेंगलूरू से अली हसन आदि ने भी अलग-अलग श्रेणियों मे हिस्सा लेकर अपने हुनर का कमाल दिखाया। यह प्रतियोगिता 1 फरवरी, 2018 से प्रारंभ होकर 30 जून, 2018 को संपन्न हुई और इसका परिणाम 30 जून को घोषित किया गया। इसमें कमलेश सेन ने पूरे एशिया पेसिफिक में पहला स्थान प्राप्त कर देश को गौरवान्वित किया।

By : Vinita Talesra



स्वास्थ्य जांच शिविर में 1 हजार बच्चों की जांच

जीवन में पहला सुख निरेागी काया

11/07/2018 - उदयपुर। रोटरी क्लब मेवाड़ द्वारा फतहपुरा स्थित द यूनिवर्सल स्कूल में सामान्य जांच एवं दंत चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया। जिसमें विद्यलय के करीब 1 हजार बच्चों के दांतो की एवं उनकी मौसमी बीमारियों संबंधी सामान्य जांच की गई। क्लब अध्यक्ष प्रेम मेनारिया ने बताया कि शिविर में पेसिफिक मेडिकल कॉलेज के डॉ. सन्नी मालवीया, डॉ. भुवनेश भारद्वाज, डॉ. अरूण बापना, डॉ. गरिमा कपूर, डॉ. रूपाली गुप्ता एवं अन्य ने प्रथम चरण के तहत बच्चों की आंखें, कान, त्वचा, पेट एवं दांत की जांचें की गई। इस अवसर पर विद्यालय के संदीप सिंधटवाडिया ने बच्चों को शारीरिक स्वच्छता के बारें में बताते हुए जीवन में पहला सुख निरेागी काया का महत्व समझाया। शिविर का संचालन आभा जैन, स्वाति भंडारी, नीलम सोनी ने किया। आभार सकीना बोहरा ने प्रेषित किया। शिविर में रोटरी क्लब मेवाड़ के सचिव मुकेश गुरानी, विद्यालय की प्राचार्या फातिमा खिलौनावाला सहित अनेक सदस्य मौजूद थे।

By : Sourabh Ojha



निम्न मध्यम एवं जरूरतमंद लोगों का निशुल्क करेंगे इलाज

मेवाड़ के बुद्धिजीवी एवं सेवा क्षेत्र के लोगों का किया आह्वान
देश एवं दुनिया में पा चुके हे कई सम्मान

09/07/2018 - उदयपुर। मूलतः उदयपुर के अप्रवासी भारतीय डॉक्टर याग्निक के पंड्या जो मेट्रो वेस्ट फिजीशियन सर्विसेस के को फाउंडर भी हैं डॉक्टर पंड्या की इच्छा है वह अपनी मातृभूमि उदयपुर के साथ देश के लिए अपने अनुभव का लाभ निम्न मध्यम एवं जरूरतमंद लोगों को निशुल्क प्रदान कर सकूं इसके लिए उन्होंने मेवाड़ के बुद्धिजीवी एवं सेवा क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों का आह्वान किया कि वह इस सेवा कार्य मे अपनी भागीदारी निभाएं। जरूरतमंद लोगो की मदद हेतु सेतु बने।

By : Vinita Talesra



शक्ति पंप ने पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के निर्माण में कदम रखा

1 लाख वीएफडी और इनवर्टर के सालाना निर्माण की क्षमता का संयंत्र
शक्ति पम्पस उत्पादों का 110 देशो में निर्यात

08/07/2018 - उदयपुर। भारत के अग्रणी एनर्जी एफ़ीशिएंट स्टेनलेस स्टील और सोलर इंटीग्रेटेड पंप बनाने वाली शक्ति पम्पस (इंडिया) लिमिटेड जो 110 देशो में अपने उत्पादों को निर्यात करती है, ने शनिवार को पिथमपुर, सेक्टर-3, में अपने पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के निर्माण संयंत्र का उद्घाटन किया। भारत के सभी बड़े सोलर इंटीग्रेटर्स और पॉवर इलेक्ट्रॉनिक्स में अनुसंधान करने वाले पांच आईआईटी के प्रोफ़ेसर इस उद्घाटन में सम्मिलित हुए। शक्ति पंप इंडिया लिमिटेड कृषि, औद्योगिक, घरेलू और बागवानी जैसे विभिन्न क्षेत्रों के पंपिंग समाधान के लिए जाना जाता है। इस नए संयंत्र के माध्यम से कंपनी भारत में निर्मित नए उत्पाद बाज़ार में लाएगी। नई इकाई सौर चलित ड्राइव हाइब्रिड इनवर्टर, मोटर स्टार्टर्स और अन्य पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों का निर्माण करेगी। संयंत्र में सालाना 1 लाख वीएफडी और इनवर्टर के निर्माण की क्षमता है। इस अवसर पर प्रबंध निदेशक, शक्ति पंप (इंडिया) लिमिटेड दिनेश पाटीदार ने बताया यह संयंत्र अद्वितीय हैं क्योंकि हमारे पास अनुसंधान और विकास इकाई और उत्पादन इकाई एक ही स्थान पर है। यह अन्य प्रमुख उत्पादकों से अलग है जिनकी डिजाइन इकाई (अनुसन्धान और विकास) और निर्माण अलग अलग स्थानों पर है। नया संयंत्र मध्य भारत में इलेक्ट्रॉनिक और पॉवर इलेक्ट्रॉनिक के क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी पैदा करेगा और इस क्षेत्र में कुशल श्रमिकों को भी बढ़ावा देगा। शक्ति पंप का अनुसंधान और विकास’ भारत सरकार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त है। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय (भारत सरकार) ने शक्ति पंप को इन हाउस रिसर्च एंड डेवलपमेंट यूनिट के लिए सम्मानित किया। पाटीदार ने बताया- कंपनी इस नई सुविधा से तीन तरह के उत्पादों का निर्माण करेगीः इलेक्ट्रिक मोटर ड्राइव (वीएफडी) (1-10 एचपी)- विभिन्न प्रकार के मोटर्स के लिए एक सार्वभौमिक ड्राइव श्रृंखला है, इलेक्ट्रॉनिक मोटर स्टार्टर्स (1-100एचपी) - सॉफ्ट स्टार्टर और अन्य डिजिटल स्टार्टर्स, और हाइब्रिड इनवर्टर (1-10 केवीए)। शक्ति पंप द्वारा बनाया गया यह ड्राइव सौर पंपिंग उद्योग, प्रोसेस उद्योग, और कपड़ा उद्योग क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जा सकेगा, जहां भी गति नियंत्रण की आवश्यकता होती है जैसे कन्वेयर, एक्सट्रूडर, पंप, पंखे, कंप्रेसर इत्यादि वहां यह उपयोगी सिद्ध होगा।

By : Sourabh Ojha



उच्च विकास दर हासिल करने के लिए जीएसटी, ई-वे बिल महत्वपूर्ण: प्रवीण गुप्ता

जीएसटी भारतीय आर्थिक सुधारों के लिए एक मील का पत्थर

05/07/2018 - उदयपुर। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने वित्त एंव वाणिज्यिक कर विभाग, राजस्थान सरकार और उदयपुर चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (यूसीसीआई) के सहयोग से बुधवार को उदयपुर में जीएसटी, ई-वे बिल, जॉब वर्क इत्यादि पर इंटरएक्टिव सत्र आयोजित किया। जीएसटी के फायदों की जानकारी देते हुए राजस्थान सरकार के सचिव-वित्त (राजस्व) प्रवीण गुप्ता ने कहा कि हम आर्थिक परिवर्तन के चरण में हैं और राजकोषीय सुधार के लिए कई उपाय किए हैं। उच्च विकास दर हासिल करने के लिए, हमें पारदर्शी और स्वच्छ अर्थव्यवस्था और जीएसटी की आवश्यकता है। इसके साथ ई-वे बिल इस दिशा में उठाया गया कदम है। उन्होंने यह भी कहा कि जीएसटी भारतीय आर्थिक सुधारों के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ है।
ई-वे बिल सिस्टम की स्वीकृति के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए गुप्ता ने कहा, ई-वे बिलों की बड़ी संख्या पहले ही तैयार हो चुकी है और यह वास्तव में एक अच्छा संकेत है। हमें हितधारकों का समर्थन देखकर प्रसन्नता हो रही है। उन्होंने यह भी बताया कि इंट्रा-स्टेट ई-वे बिल सिस्टम भी पेश किया गया है, ई-वे विधेयक व्यापारियों के लिए उपयोगी और पारदर्शी साबित होगा। सचिव-वित्त (राजस्व) ने यह भी कहा कि यह कर सुधार का समय है और हम उन समाधानों पर काम कर रहे हैं जो सुझाव और प्रतिक्रियाओं के रूप में प्राप्त हुए हैं।
सीआईआई अध्यक्ष अनिल साबू ने कहा कि जीएसटी कराधान की एक एकीकृत योजना है जो माल और सेवाओं के बीच अंतर नहीं करती है। यह प्रतिस्पर्धात्मकता में सुधार करेगी, भारतीय निर्यात को बढ़ावा देगा और निर्माताओं व निर्यातकों को लाभ होगा। 1947 में देश का भौतिक संघ बना थाय 2017 में जीएसटी को अपनाकर देश का आर्थिक संघ बना है। जीएसटी अब 1 साल पर एक वर्ष पूरा कर चुका है। 1 जुलाई 2017 (यानी एक वर्ष पहले) माल और सेवा कर (जीएसटी) की शुरूआत, भारत का सबसे बड़ा अप्रत्यक्ष कर सुधार, बाधाओं पर त्वरित प्रतिक्रिया के चलते अपेक्षाकृत सरल रहा है। शुरुआती बाधाओं के बाद अब व्यवसाय स्थापित हो गए हैं। अंतरराज्यीय बाधाओं को खत्म करने और ई-वे बिल प्रणाली के कार्यान्वयन के साथ, परिवहन और लाजिस्टक अधिक प्रतिस्पर्धी और कम महंगे हो गए हैं। इस मौलिक कर का प्रभाव अब उद्यमों, व्यापक कर आधार और उच्च कर राजस्व के औपचारिकरण में महसूस किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार 1 से 7 जुलाई 2018 तक जीएसटी सप्ताह मना रही है।
राजस्थान सरकार के वाणिज्यिक कर आयुक्त आलोक गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि 1991 के आर्थिक सुधारों के बाद, जीएसटी देश में सबसे बड़ा सुधार है। उन्होंने यह भी कहा कि उद्योगपति, व्यापारियों और सेवा प्रदाताओं को जीएसटी से डरने की पूरी आवश्यकता नहीं थी। जब अर्थव्यवस्था का रूप बदलता है, कर संरचना भी बदल जाती है। जीएसटी करों की बहुतायत की बजाय टैक्स का एक रूप सुनिश्चित करेगा। शायद यह कर प्रणाली का सबसे मजबूत रूप है। श्री आलोक गुप्ता ने यह भी कहा कि चिंता या संदेह की कोई आवश्यकता नहीं है। राज्य सरकार ने पहले ही राजस्थान में प्रशिक्षण कार्यशालाएं आयोजित की हैं और यह काम लगातार जारी है। यदि कोई प्रश्न या संदेह हैं तो उन्हें तुरंत स्पष्टीकरण के लिए संपर्क करना चाहिए।
सत्र के दौरान, जयपुर के प्रतिष्ठित विशेषज्ञ पंकज घिया ने ई-वे विधेयक के संबंध में कई अहम मुद्दों पर दर्शकों को जागरूक किया, जैसे कि ई-वे बिल की आवश्यकता क्यों है, यह कब लागू होगा, कब इसकी आवश्यकता नहीं होगी, ई-वे बिल तैयार करना, किलोमीटर नियम, जाब वर्क और अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं की जानकारी। विशेषज्ञों ने यह भी बताया कि जीएसटी ने व्यवसायी की व्यावसायिक प्रक्रिया को सरल बना दिया है और ई-वे बिल कर सुधार की दिशा में एक उज्ज्वल कदम है।
केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सेवा कर विभाग के आयुक्त सी के जैन ने कहा कि जीएसटी को सही रूप में गेम-चेंजर कहा जा सकता है। हालांकि, जीएसटी को रहस्यमयी न रहे क्योंकि यह लोगों को डरा रहा है। यह केवल उन लोगों के लिए जटिल होगा जो अपने सामान और सेवाओं के लिए खाता नहीं रखते हैं। जैन ने आगे कहा कि नई कर प्रणाली पूरे देश में एक समान होगी और एक मजबूत अनुपालन प्रणाली का स्थान लेगी। सीआईआई राजस्थान राज्य कार्यालय के निदेशक और प्रमुख नितिन गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार की सलाह पर, सीआईआई राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में जीएसटी प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है।
सीआईआई ने पिछले डेढ़ साल में जयपुर, जोधपुर और अब उदयपुर में 1200 उद्योग सदस्यों को कवर करने वाले 6 सत्रों का आयोजन किया है। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार ने जीएसटी पर प्रश्नों के समाधान के लिए एक जीएसटी क्यूरी आईडी और जीएसटी पर सवालों के समाधान के लिए टोल फ्री नंबर शुरू कर दिया है। ईमेल आईडी प्रभावी रूप से काम कर रही है और नियमित रूप से वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा इस पर जवाब दिए जा रहे हैं। उद्योगों को इस हेल्पलाइन और टोल फ्री नंबर का उपयोग करना चाहिए। उन्होंने बताया कि सीआईआई उद्योगों को इस बदलाव के लिए तैयार करने में मदद कर रहा है, और आगामी चुनौतियों के लिए अपने उद्योग सदस्यों के लिए 100 से अधिक सत्र आयोजित किए जा रहे हैं। सीआईआई ने 24 गुणा 7 सहायता डेस्क भी लॉन्च किया है जिसमें सीआईआई उद्योग के सदस्य जीएसटी से संबंधित प्रश्न पूछ सकते हैं।
उदयपुर चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (यूसीसीआई) के अध्यक्ष हंसराज चौधरी ने कहा कि जीएसटी भारत का सबसे महत्वपूर्ण कर सुधार है। जीएसटी ने वस्तुओं और सेवाओं के एक सामंजस्यपूर्ण राष्ट्रीय बाजार में शुरुआत की है और एक सरलीकृत, निर्धारित-अनुकूल कर प्रशासन प्रणाली की ओर अग्रसर है। यूसीसीआई के माननीय महासचिव केजरी अली ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा। उनके अनुसार जो किसी भी प्रकार के व्यवसाय में लगे हुए हैं और व्यवसायिक घरों का एक आदर्श हिस्सा बनना सीखना चाहते हैं, उन सभी लोगों के लिए प्रक्रियात्मक आवश्यकताओं को समझने और उनके प्रश्नों के समाधान का यह एक अवसर था। ओपन हाउस के दौरान बड़ी संख्या में प्रश्न और उत्तर सामने आए, जिनका अधिकारियों ने बहुत अच्छा जवाब दिया।
कार्यक्रम में मीनल भोसले, आईआरएस, ओएसडी-फाइनेंस, राजस्थान सरकार सीआईआई राजस्थान के सदस्य अरविंद सिंघल, मुख्य संरक्षक, यूसीसीआई सुकेत सिंघल सहितं केंद्र और राज्य सरकार के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी भी उपस्थित थे।

By : Vinita Talesara



शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए हिन्दुस्तान जिंक को पुरस्कार

रामपुरा, राजपुरा, जावर माइंस और दरीबा इकाईया पुरस्कृत

30/06/2018 - उदयपुर। हिन्दुस्तान जिंक की चार इकाईयों रामपुरा आगुचा खान, राजपुरा दरीबा खान, जावर माइंस और दरीबा स्मेल्टर को वर्ष 2017-18 में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए बिड़ला आॅडिटोरियम जयपुर में आयोजित राज्य स्तरीय 24वें भामाशाह सम्मान समारोह में पुरस्कृत किया गया। समारोह में विधान सभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल, शिक्षा राज्य मंत्री प्रो.वासुदेव देवनानी, शासन सचिव नरेश पाल गंगवाल, निदेशक माध्यमिक शिक्षा नथमल डिडेल, प्रारंभिक शिक्षा बिकानेर श्याम सिंह राजपुरोहित ने सम्मानित किया। समारोह में भामाशाह, शिक्षा अधिकारी एवं अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद थे। हिन्दुस्तान जिंक के रामपुरा आगुचा खाॅन की ओर से यह पुरस्कार सहप्रबंधक सीएसआर दलपत सिंह चैहान, रूचिका नरेश चावला, राजपुरा दरीबा खान से महाप्रबंधक प्रशासन कर्नल केजीके चौधरी, सहप्रबंधक अभय गौतम, जावर माइंस से सह-प्रबंधक सीएसआर अरूणा चीता, नैरूति संघवी एवं देबारी स्मेल्टर से सहप्रबंधक बुद्धिप्रकाश पुष्करणा एवं जरनेन फातिमा ने ग्रहण किया। उल्लेखनीय है कि रामपुरा आगुचा खान द्वारा आसपस के क्षेत्र में शैक्षिक उन्नयन हेतु 3.36 करोड़, राजपुरा दरीबा खान द्वारा 6.65 करोड़, जावर माइंस द्वारा 62 लाख एवं देबारी स्मेल्टर द्वारा 53 लाख राशि का योगदान किया गया। इन कार्यो में राजकीय माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में गणित, अंग्रेजी, व विज्ञान विषयाध्यापकों की अतिरिक्त व्यवस्था, विद्यालयों का जीर्णोद्धार, नंदघरों का निर्माण, आईआईटी हेतु कोचिंग, छात्राओं को रिंगस महाविद्यालय में उच्च शिक्षा हेतु सहयोग, पुस्तकालय व प्रयोगशाला हेतु फर्नीचर एवं सुरक्षा उपकरण, अध्यापको के अध्ययन हेतु पुस्तकें एवं अध्ययन सामग्री, राजकीय अध्यापको हेतु कार्यशाला, ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण शिविर, शिक्षा संबंल के अन्तर्गत नियुक्त किये गये अध्यापकों का आमुखीकरण प्रशिक्षण, बाल कल्याण केन्द्र के छात्र छात्राओं को, शुद्ध पेयजल, गणवेष वितरण, ब्लाॅक स्तरीय खेलकुद प्रतियोगिताओं में सहयोग, ब्लाॅक स्तरीय विज्ञान मेले में आर्थीक सहयोग, अलग अलग राजकीय विद्यालयों में कक्षा कक्षो का निर्माण, बालीकाओं एवं बालकों के लिए शोचालय का निर्माण, ट्युबवेल लगवाने का कार्य, ग्रिन बोर्ड उपलब्ध कराना, विद्यालयों की छतों पर वाटर प्रुफींग का कार्य, भुमीगत टेंक का निर्माण, जिलों के 3089 आंगनवाडी केन्द्रो पर शालापुर्व शिक्षा, स्वास्थ्य परिक्षण किया जा कर शैक्षिक उन्नयन हेतु सहयोग किया गया है।

By : Sourabh Ojha



राजस्थान सरकार ने भारती फाउंडेशन को शिक्षा विभूषण पुरस्कार से सम्मानित

देहात में 22,000 से अधिक ग्रामीण बच्चें और 700 शिक्षक लाभान्वित
पुरस्कार हमारे कर्मचारियों की मेहनत का साक्ष्य: विजय चड्डा

29/06/2018 - उदयपुर। आज भारती फाउंडेशन को, जो भारती एंटरप्राइजिस की लोकोपकारी संस्था है, प्राथमिक शिक्षा विभाग राजस्थान सरकार द्वारा प्रतिष्ठित शिक्षा विभूषण से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार, फाउंडेशन को 134 सरकारी स्कूलों में सुधार लाने के लिए प्रदान किया गया है, जिससे राजस्थान देहात में 22,000 से अधिक ग्रामीण बच्चें और 700 शिक्षक लाभान्वित हुए हैं। इसके अतिरिक्त, फाउंडेशन ने 20,000 से अधिक स्कूल-से-बाहर बच्चों को निवारक पाठ्यक्रम पढ़ाने के बाद उन्हें आयु-उपयुक्त ग्रेडों में लाकर मुख्यधारा में भी शामिल किया है। हाल ही में, राजस्थान सरकार ने बाड़मेर जिले (छोहतन, सिंधारी और रामसर) और सवाई माधोपुर जिले (चौथ का बरवारे, बोनली और सवाई माधोपुर) में 6 ब्लाकों को स्कूल-से-बाहर बच्चों से मुक्त घोषित किया है। इस अवसर पर विजय चड्डा, सीईओ भारती फाउंडेशन का कहना था यह *प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त करके हम सम्मानित हुए हैं और राजस्थान सरकार के आभारी हैं जिनकी सहायता से इस प्रोग्राम ने एक शानदार सफलता प्राप्त किया है। यह पुरस्कार हमारे कर्मचारियों की मेहनत का साक्ष्य है और अल्पसुविधा-प्राप्त बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए फाउंडेशन के मिशन के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दुबारा से पुष्ट करता है। उत्कृष्ट शिक्षा उपलब्ध कराकर, यह फाउंडेशन राजस्थान राज्य में संचयी रूप से 60,000 से अधिक अल्पसुविधा-प्राप्त ग्रामीण विद्यार्थियों पर गहरा प्रभाव डाल रही है। फाउंडेशन की शैक्षणिक पहलों से 34 ब्लॉकों में 1326 स्कूलों / केन्द्रों में 1200 से अधिक शिक्षकों को भी लाभान्वित किया हैं, जिससे उन्हें उत्कृष्टता हासिल करने में सहायता मिली है।

By : Sourabh Ojha



रुद्राभिषेक इंटरप्राईजेज लिमिटेड केपिटल मार्केट में प्रवेश के लिए तैयार

29/06/2018 - उदयपुर। रुद्राभिषेक इंटरप्राइजेज लिमिटेड (आरईपीएल) इंफ्रास्ट्रक्चर, अर्बन डिजाइनिंग और प्लानिंग, ग्लोबल इन्फॉर्मेशन सिस्टम, बिल्डिंग के डिजाइन एवं प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में उपयोगकर्ताओं को बड़े पैमाने पर सेवाएं प्रदान करता है, अब वह 45.69 लाख रुपए के इक्विटी शेयर्स इनिश्यल पब्लिक ऑफर के साथ कैपिटल मार्केट में प्रवेश कर रहा है जिसकी फेस वैल्यू 10 रुपये है जो पूरी तरह नगद भुगतान करने पर 41 रुपये प्रति इक्विटी शेयर (31 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के प्रीमियम शेयर सहित) जो 1873.29 लाख रुपये तक पहुँच रहा है। शेयर एनएसई के प्लेटफॉर्म पर सूचीबद्ध होंगे। मुख्य प्रबंधकों खम्बाटा सिक्योरिटीज लिमिटेड और कॉर्पोरेट कैपिटलवेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड हैं। अंक 29 जून 2018 को खुलता है और 05 जुलाई 2018 को बंद हो जाता है। वर्षों से यह अपने मूल कार्य के जुड़ी कई अलग-अलग तरह की सेवाएँ प्रदान कर रहा है जिसने घरेलू बाज़ार में इसकी स्थिरता बनाई है एवं इसी कारण राजस्व में भी वृद्धि देखी गई है। इस प्रकार यह शेयरधारकों को पिछले 11 वर्षों से शतप्रतिशत लाभांश वितरण करने वाली कम्पनी बनी हुई है। प्रमोटर प्रदीप और रिचा मिश्रा को इंफ्रास्ट्रक्चर कंसल्टेंसी में 45 वर्षों से भी अधिक का अनुभव हैं। कंपनी का रियल स्टेट और इंफ्रास्ट्रक्चर कंसल्टेंसी में एंड-टू-एंड समाधान प्रदान करने के 25 साल का अनुभव है और कंपनी के पास 210 करोड़ रुपये से अधिक के ऑर्डर हैं। यह आईएसओ 9001:2008 क्वालिटी मैनेजमेंट सर्विसेस के लिए प्रमाणित है, इसमें अत्याधुनिक टेक्नालजी और सॉफ्टवेयर है एवं यह 30 से अधिक सरकारी विभागों और एजेंसियों के साथ सूचीबद्ध है। प्रमुख सरकारी परियोजनाएं हैं : प्रधान मंत्री आवास योजना - सभी के लिए आवास (उत्तर प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश), सेना कार्मिक की विधवाओं और बच्चों के लिए आवास, स्मार्ट सिटी (कानपुर, देहरादून, इंदौर और वाराणसी), डीजी-एमएपी और निजी परियोजनाएं सहित पार्थ आद्यंत और अर्का (लखनऊ), नवयुग स्मार्ट सिटी (इलाहाबाद), टीसीडीएल (शोना) आदि।

By : Sourabh Ojha



उदयपुर से लगभग 10 हजार लाभार्थी जाएंगे जयपुर

फ्लेगशिप योजनाओँ से लाभ प्राप्त करने वाले भाग लेगे

29/06/2018 - उदयपुर। प्रधानमंत्री मोदी के 7 जुलाई को जयपुर में होने वाले राज्य स्तरीय कार्यक्रम में भाग लेने हेतु जिले से लगभग 10 हजार लाभार्थी जयपुर जाएंगे। विभिन्न फ्लेगशिप योजनाओं के इन लाभार्थियों का चिन्हीकरण का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्लिक ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे जल्द से जल्द लाभार्थियों की सूची बनाएं।
जिला कलक्टर ने बताया कि ऐसा संभवतः पहली बार है कि विभिन्न राजकीय योजनाओं के लाभार्थियों की राज्य स्तरीय सभा को प्रधानमंत्री संबोधित करेंगे और योजनाओं से मिले फायदों के बारे में उनसे सीधा संवाद करेंगे। फ्लेगशिप योजनाओँ से लाभ प्राप्त करने वाले जिले के चुनिंदा निवासियों को इस कार्यक्रम में सम्मिलित होकर अपनी बात प्रधानमंत्री के समक्ष रखने का अवसर दिया जाएगा। उन्होने बताया कि जिला परिषद सीईओ कमर चौधरी को इस कार्य के लिए नोडल अधिकारी बनाया गया है। अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन छोगाराम देवासी एवं क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मन्नालाल रावत इस कार्य में उनका सहयोग करेंगे। जिसमे उज्ज्वला योजना के 1500, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के 2000 व शहरी के 300, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के 500, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य योजना, स्कूटी वितरण योजना केे 200, पालनहार योजना के 1000, तीर्थयात्रा योजना के 100, श्रमिक कार्ड योजना के 1500, स्किल इंडिया के 300, मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान ग्रामीण के 300, मुद्रा योजना के 2000 एवं कृषि ऋण माफी योजना के 100 लाभार्थियों को जयपुर में होने वाले कार्यक्रम में ले जाया जाएगा। लाभान्वितों की संख्या काफी बड़ी है जिनमें से लगभग 10 हजार लाभार्थियों का कार्यक्रम हेतु चिन्हीकरण किया है।

By : Sourabh Ojha


1